IND W vs ENG W T20: पहले T20I में भारत को इंग्लैंड ने 9 विकेट से हराया, नहीं चला मंधाना का बल्ला

3 मैचों की T20 सीरीज के पहले मुकाबले में England की टीम ने India को 9 विकेट से हराया। इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 133 रनों का टारगेट था। जो उसने 1 विकेट के नुकसान पर हासिल किया ।

IND W vs ENG W T20: पहले T20I में भारत को इंग्लैंड ने 9 विकेट से हराया, नहीं चला  मंधाना का बल्ला
England beat India by 9 wickets in first T20i

IND W vs ENG W T20

india vs England Women's match में सोफिया डंकली के जबरजस्त अर्धशतकीय पारी के साथ England ने पहला T20 मैच 9 विकेट से अपने नाम किया है। इस जीत के साथ ही 3 मैचों की T20 सीरीज में England ने 1-0 से बढ़त बना ली है। टॉस हार कर पहले बल्लेबाजी करते हुए Team India ने 7 विकेट के नुकसान पर 132 रन बनाए। India की तरफ से पहले विकेट के लिए Smriti Mandhana और Shafali Verma ने 30 रन जोड़ लिए।

लेकिन उसके बाद लगातार  विकेट गिरते चले गए। Smriti Mandhana, Harmanpreet Kaur, Richa Ghosh जैसे बल्लेबाज ने शुरुआत तो काफी अच्छी की लेकिन कोई भी बड़ी पारी नहीं खेल सके। जिसका खामियाजा Team India को भुगतना पड़ा और भारत केवल 132 रन ही बना सका। India की तरफ से सबसे ज्यादा रन Deepti Sharma ने बनाया। उन्होंने भारत के लिए 29 रनों की पारी खेली। England की तरफ से Sara Glenn ने 4 ओवर में 23 रन देकर 4 विकेट चटकाएं।

133 रनों के छोटे टारगेट का पीछा करने उतरी England की टीम ने पहले विकेट के लिए 60 रन जोड़ लिए थे। इंग्लैंड की तरफ से Sofiya Dankli ने शानदार 61* रनों की पारी खेलकर केवल 13 ओवर में ही अपनी टीम को जीत दिला दी। दूसरे छोर से डंकली का साथ Deniel Watt ने दिया। उन्होंने 32* रनों की  पारी खेली।

 भारत की गेंदबाजी फ्लॉप रही

T20 मुकाबले में 132 रनों का स्कोर उतना भी ज्यादा छोटा नहीं होता है। लेकिन भारतीय टीम के गेंदबाज इस स्कोर को डिफेंड करने में नाकामयाब रहे। मात्र Sneha Rana ही विकेट लेने में कामयाब रही।  उन्होंने भी 10.3 की इकोनॉमी से रन खर्च किए। उनके अलावा Deepti Sharma भी काफी महंगी साबित हुईं। उन्होंने 2 ओवर की गेंदबाजी में 25 रन गवाएं। सीरीज का दूसरा मुकाबला 13 सितंबर को County Cricket Darbi में खेला जाएगा।

Also Read:Virat Kohli Asia Cup 2022: पाकिस्तान के खिलाफ अगर ऐसा हुआ तो Virat Kohli को रोक पाना बहुत मुश्किल होगा